शुक्रवार, 14 अक्तूबर 2011

"जहिना जहिना बढ़ल जरुरत"

जहिना जहिना बढ़ल जरुरत,
तहिना तहिना घटल कमाई,
रुइया के गोदाम में बैस कs,
हँसैत अछि आय दियासलाई,

एहसानक सागर सुखल,
बुदरू सबहक सपना भूखल,
रोज कहानी पानी मांगे,
बादल ये गुड़-धानी मांगे,
रैत पोखैर के आईख मs गरल,
एहन बदलल छाई,

फूल-फूल पर लपटें नाचें
जरैत होय इबारत बांचें,
टहनी मुइर के टूईट रहल अछि,
ओ तेज़ाब कs घोइट रहल अछि,
बुदरू सभ के मासूम हँसी आब,
लागे लागल ढिंठाई,

बिच सड़क बिलैर काटे,
आर इजोत मारे चांटे,
दिन धूसर अछि, साझ धुवा में,
रौद लापता भेल कुवा में,
चश्मा चढ़ल कमानी ढीला,
परैर नै अछि देखाई,
चन्दन झा ("राधे")
जितमोहन झा ("जीतू जी")

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

  © Mithila Vaani. All rights reserved. Blog Design By: Chandan jha "Radhe" Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP