सोमवार, 21 फ़रवरी 2011

अहाँक हँसब कमाल छले साथी - (कविता)

अहाँक हँसब कमाल छले साथी !
हमरा अहाँ पर मलाल छले साथी !!

दाग चेहरा पर दs गेलो अहाँ !
हम ते सोच्लो गुलाब छले साथी !!

रैत मs आबईत अछि अहिक सपना !
दिन मs अहिके ख्याल छले साथी !!

उइड़ गेल निंद हमर रैत के !
अहाँक एहने सवाल छले साथी !!

करै लए गेल छलो श्नेहक सौदा !
कियो आयल छलैथ दलाल साथी !!

अहाँक हँसब कमाल छले साथी !
हमरा अहाँ पर मलाल छले साथी !!

रचना: जितमोहन झा (जितू)

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

  © Mithila Vaani. All rights reserved. Blog Design By: Chandan jha "Radhe" Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP