मंगलवार, 17 जनवरी 2012

गजल

निर्धन जानि अहुँ बिसरलौन्ह माँ
कोन अपराध हम कएलौन्ह माँ

निर्धन छी हम हमर नै गलती
इ निक सनेस अहीं दएलौन्ह माँ

मुल्यक तराजू में नै हमरा तौलु
ममता कए प्यासल रहलौन्ह माँ

दर-दर भटकैत खाक छनै छी
आँचर अहाँक नहि पएलौन्ह माँ

मनु के नै अपन स्नेह देलौं किछु
चरणों सँ आब दूर कएलौन्ह माँ
***जगदानंद झा 'मनु'*********

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

  © Mithila Vaani. All rights reserved. Blog Design By: Chandan jha "Radhe" Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP