मंगलवार, 22 नवंबर 2011

लकीर मिटा दैत अछी - अजय ठाकुर (मोहन जी)

प्यार करे के सजा बहुत नीक दैत अछी कनियाँ /
मैर जाउ त जिबै के दुआ दैत अछी दुनियां //

"मोहन जी" कोन सूरज छथि जे इलज़ाम नै सहतैथ /
मिथिला में पत्थर के भगवान बना दैत अछी दुनिया //

इ जख्म प्यार के देखब नै ककरो /
आनि क पूरा बाजार सजा दैत अछी दुनिया //

किस्मित पर नाज़ नै करू मिथिला वाशी /
हाथ के लकीर मिटा दैत अछी दुनिया //

शादी के बाद मारे के उपाय करे अछी कनियाँ /
जिबे के उपाय सिखा दैत अछी दुनिया //

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

  © Mithila Vaani. All rights reserved. Blog Design By: Chandan jha "Radhe" Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP